Book Details

40
  • Fast delivery worldwide
  • Dispatch from the Store in 2 working days
  • Status: In Stock
- +
Add To Cart add to wishlist

तुम्‍हारी क्षय

Book Details

  • Choose Book Type:

  • Pages:63 pages
  • Edition Year:2021
  • Publisher:Rahul Foundation
  • Language:Hindi
  • ISBN:9788187728733


Book Description

राहुल सांकृत्यायन सच्चे अर्थों में जनता के लेखक थे। वह आज जैसे कथित प्रगतिशील लेखकों सरीखे नहीं थे जो जनता के जीवन और संघर्षों से अलग-थलग अपने-अपने नेह-नीड़ों में बैठे कागज पर रौशनाई फिराया करते हैं। जनता के संघर्षों का मोर्चा हो या सामन्तों-ज़मींदारों के शोषण-उत्पीड़न के खि़लाफ़ किसानों की लड़ाई का मोर्चा, वह हमेशा अगली कतारों में रहे। अनेक बार जेल गये। यातनाएँ झेलीं। ज़मींदारों के गुर्गों ने उनके ऊपर कातिलाना हमला भी किया, लेकिन आज़ादी, बराबरी और इन्सानी स्वाभिमान के लिए न तो वह कभी संघर्ष से पीछे हटे और न ही उनकी कलम रुकी। दुनिया की छब्बीस भाषाओं के जानकार राहुल सांकृत्यायन की अद्भुत मेधा का अनुमान इस बात से भी लगाया जा सकता है कि ज्ञान-विज्ञान की अनेक शाखाओं, साहित्य की अनेक विधाओं में उनको महारत हासिल थी। इतिहास, दर्शन, पुरातत्व, नृतत्त्वशास्त्र, साहित्य, भाषा-विज्ञान आदि विषयों पर उन्होंने अधिकारपूर्वक लेखनी चलायी। दिमागी गुलामी, तुम्हारी क्षय, भागो नहीं दुनिया को बदलो, दर्शन-दिग्दर्शन, मानव समाज, वैज्ञानिक भौतिकवाद, जय यौधेय, सिंह सेनापति, साम्यवाद ही क्यों?, बाईसवीं सदी आदि रचनाएँ उनकी महान प्रतिभा का परिचय अपनेआप करा देती हैं। समाज को पीछे की ओर धकेलने वाले हर प्रकार के विचार, रूढ़ियों, मूल्यों-मान्यताओं-परम्पराओं के खि़लाफ़ उनका मन गहरी नफ़रत से भरा हुआ था। उनका समूचा जीवन व लेखन इनके खि़लाफ़ विद्रोह का जीता-जागता प्रमाण है। इसीलिए उन्हें महाविद्रोही भी कहा जाता है। राहुल की यह निराली रचना आज भी हमारे समाज में प्रचलित रूढ़ियों के खिलाफ समझौताहीन संघर्ष की ललकार है।




About Author

image description

Rahul Sankrityayan

_